गुरुवार, 23 फ़रवरी 2012

जब हकीकत सामने आयेगी !

जिन्दगी खुद को कब तक आईने से बहलाएगी !
क्या हश्र होगा जब हकीकत सामने आयेगी !


जब-जब हालातों में होगा इम्तिहान तेरे सब्र का ,
राहों की मुश्किलें दास्ताँ-ए-कोशिश बताने आयेंगी !

गुजरती तो जा रही जिन्दगी भटकती राहों से ,
तेरी हसरतें हीं तेरे जज्बे को आजमाने आएँगी !


कब्रगाह तक पहुँचने से पहले तेरे जनाजे के ,
उस रोज़ कयामत सांसों का हिसाब लगाने आयेगी !

मयस्सर न होगा कतरा -ए- रहम तुझे उस रोज़ ,
मंजिल करीब होगी ,मौत तेरा साथ निभाने आयेगी !

जिन्दगी खुद को कब तक आईने से बहलाएगी !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...