रविवार, 24 जून 2012

रास्ते और मोड़ !

आज इत्तिफाक से मिल गये,
हम उसी मोड़ पर !
खायीं थीं कसमे न मिलेंगे,
अब किसी मोड़ पर !!

फिर से दिल पुकार उठा,
शिकवे-गिले होने लगे !
एक-दूजे के जख्मों को,
चरों नयन भिगोने लगे !!

थी शिकायत किस बात पर,
चले गये छोड़ कर..........!
आज इत्तिफाक से मिल गये,
हम उसी मोड़ पर !

न वादों का कोई गिला था,
न जंजीरें थीं कसमों की !
रूहों के मिलन में कहाँ थी,
रुकावटें कोई जिस्मों की !!

फिर भी रास्ते बदल लिए 
खुद  के दिल तोड़ कर..........!
आज इत्तिफाक से मिल गये,
हम उसी मोड़ पर!
खायीं थीं कसमे न मिलेंगे,
अब किसी मोड़ पर !!

2 टिप्‍पणियां:

कीमत

तुम आ गए हो तो रौनक आ गई है गरीबखाने  में वगरना कोई कब्रिस्तां में जश्न मनाता है क्या। एक इश्क ही तो है जिसमें लोग लुट जाते हैं, यूं ह...