रविवार, 10 जून 2012

नदी की प्यास!

कौन समझता है,
नदी की तपन को !
रही तरसती 
बूँद-बूँद वह 
उम्र भर!

साक्षी बनती रही,
हर एक प्यास की
तृप्ति में वह !
पी न सकी कभी,
एक घूँट भर !

ढोती रही अधूरी प्यास,
मन में लिए हर क्षण!
रही भटकती वह,
गाँव शहर 
पर्वत सागर !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...