मंगलवार, 26 जून 2012

दौर-ए- मुफलिसी !

मुफलिसी का दौर कुछ इस कदर चला,
आदमी न जाने कौन-कौन सी डगर चला !!

मुसीबतों का जो फिर सिलसिला चला,
जिन्दगी में रंज-ओ-गम का जलजला चला !
फिर भी कर वो पूरा सफर चला .............
आदमी न जाने कौन-कौन सी डगर चला !!

कदम-कदम पर सबर का इम्तिहान चला,
मुकद्दर के हांथों मजबूर हो  इंसान चला !!
भटकते-भटके वो मगर चला .............!
आदमी न जाने कौन-कौन सी डगर चला !!

जहाँ में जिन्दगी को बिखेरता चला ,
अपनी ही उलझनों को समेटता चला !
करके वीरां अपने  दीवार-ओ-दर चला......!
आदमी न जाने कौन-कौन सी डगर चला !!

              

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...