सोमवार, 30 जुलाई 2012

जिन्दगी



जिन्दगी भर जीता रहा जिन्दगी;
फिर भी समझ न आयी जिन्दगी !

मेरे अरमानों को लोग दफनाते गये;
नये-नये रास्ते चलने को बतलाते गये;
रोज नया मोड़ लाती गयी जिन्दगी !

यूँ तो जख्मी सारा जहाँ ही था,
जीने को जमीं न आसमाँ ही था;
फिर भी चलती ही जा रही जिन्दगी!

कभी एक पहेली- कभी एक सवाल है 
     फलसफा कभी, दर्शन तो कभी वबाल है!
सबको उलझाती जा रही है जिन्दगी ! 


जिन्दगी भर जीता रहा जिन्दगी;
फिर भी समझ न आयी जिन्दगी !


शनिवार, 28 जुलाई 2012

विवशता

पीड़ा भी थी,अनभूति भी ;
न थी तो अभिव्यक्ति !
जब हो गयी असहनीय 
तो समाधान की लालसा में 
भटकता शरीर,
पहुँच गया 
चिर सखी गंगा के गोद में,
समा जाने को पूर्ण लालायित!
लेकिन; ममत्त्व ने 
फिर विवश कर दिया 
एक स्त्री और 
माँ को जीने के लिए !

सोमवार, 23 जुलाई 2012

प्रणय-गीत-2




                                                       मेरी सांसों को सुर देकर;
                                                       तुम मेरा संगीत बन जाओ!

                                 बन कर सूरज की पहली किरन;
                                 जीवन में उजाला कर दो !
                                 खाली है मेरे दिल का पैमाना,
                                 तुम नेह की हाला भर दो !
                                 मैं हूँ तेरा चिर प्रेमी और 
                                 तुम  अमर प्रीत बन जाओ.........!



                                                           मेरी सांसों को सुर देकर;
                                                           तुम मेरा संगीत बन जाओ!


                                                                                  छोड़ के तू सारे जग को;
                                                                                  आ जा तू मेरी बाँहों में !
                                                                                 साथ चले थे-साथ चलेंगे 
                                                                                 हम जीवन की राहों में !
                                                                                 अब तक हारा मैं जग से 
                                                                                 तुम यह मेरी जीत बन जाओ.......!




                                                           मेरी सांसों को सुर देकर;
                                                           तुम मेरा संगीत बन जाओ!

रविवार, 22 जुलाई 2012

प्रणय-गीत







                                  जब शाम ढले,
                                  पीपल छाँव तले;
                                  जल-गागर का प्यार पले...........!

                                                             गाँव की गोरी,
                                                             करके नजरों की चोरी;
                                                             जब घूँघट के पट खोले.............!
                                                             तन--मन झूमे भर-भर हिंडोले ....!

                                      कोयल राग सुनाये,
                                      माटी का कण भाग जगाये;
                                      आकर गोरी के पाँव तले.........!
                                      हर भँवरे का बदन जले...........!


                                                             जब शाम ढले,
                                                             पीपल छाँव तले;
                                                             जल-गागर का प्यार पले...........!


दास्ताँ-ए-गम -3


अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...