मंगलवार, 10 मार्च 2015

मुझे मेरे यार का ठिकाना बता दे !

तुझे मंदिर , मस्जिद काबा मुबारक ,
मुझे मेरे यार का ठिकाना बता दे !

सलीका क्या है तेरी महफ़िल का ,
साकी मुझे मेरा पैमाना बता दे !

नूरे-चश्म की मयकशीं का नशा कहाँ ,
रहे न होश वो मयखाना बता दे !

तरसती है ये निगाह दीदार को ,
दीदारे-यार नजराना बता दे !

बाकी भी गुजर जाय खुशफहमी में ,
गमे-दिल का सनम खजाना  बता दे !​

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...