सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कोरोना और हमारा देश



कोरोना एक महामारी के साथ हमारे मुँह पर एक झंनाटेदार तमाचा भी है।

हमने कभी स्वयं को इतना सुरक्षित बनाने की दिशा में प्रयास ही नहीं किए।


पिछले साल से ही यदि हम कुछ सीख पाते तो यह भयानक स्थिति शायद न होती।

लेकिन हम कहाँ सीखने वाले।


अब भी समय है आने वाली पीढ़ियों के लिए इस प्रकृति को बचा लें 

अन्यथा हम नहीं बच पायेंगे। 

जीवन जीने के लिए मूलभूत संसाधन प्रकृति ने निःशुल्क प्रदान किए हैं 

हमारा अब दायित्व है कि इसे संरक्षित करें। 

अभी भी समय है स्वयं को और आने वाले कल को सुरक्षित  कर लें।


“Perhaps we have learnt wrong definition of success once again think and find true value of that meant.”

टिप्पणियाँ

  1. सही कहा आपने।
    हम अभी भी ठोकर से कुछ नहीं सीखे।
    मैंने प्रकृति के सहयोगी के तौर पर अभियान चला रखा है। इसी अभियान पर आधारित ब्लॉग भी बनाया। आप चाहो तो इसके तहत इससे जुड़ सकते हो।
    ब्लॉग का लिंक पौधे लगायें धरा बचाएं

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

नहीं रह पाता हूं सहज

नहीं रह पाता हूं सहज, देखकर दुधमुंहे बच्चे की दुर्दशा। मां जानती है इसे दूध पिलाना बहुत ज़रूरी है! पर क्या करे कहां से लाए साठ रुपए किलो पानी वाला दूध। अब समाज पर शासन जो इनका है, जिन्हें अपनी शामों के लिए ज़रूरी है सिंगल माल्ट या जैकडेनियल व्हिस्की। नहीं रह पाता हूं सहज देखकर कर्णधारों की दुर्दशा।

चुनाव और प्रजातंत्र

भारत को आजाद हुए 70 साल पूरे हो गए और 70 सालों से यहां पर लोकतंत्र बहाल है। कहने को और संवैधानिक रूप से इस देश में प्रत्येक नागरिक स्वतंत्र है और उसके अपने मौलिक अधिकार हैं। भारत के आजाद होते ही सरकार बनाने का एकमात्र विकल्प कांग्रेस थी और जैसे सत्ता की सियासत चालू हुई भारत में राजनैतिक लिप्सा और लोलिपता बढ़ती गई। यद्यपि भारत को आजाद कराना भी एक पूर्व नियोजित अवधारणा थी जिसके चलते इस देश में रहने वाली  सीधी साधी जनता पर मनमाना शासन किया जा सके और इस अवधारणा को साकार भी किया गया जिसका परिणाम यह हुआ की लोकतंत्र एक केवल औपचारिक तंत्र रह गया। प्रत्येक 5 वर्ष पश्चात या उसके मध्य में इस राजनीतिक बाजारवाद में कुछ लोग पूर्ण रूप से व्यवसायिक होकर राष्ट्रवाद  के नाम पर अपना राजनीतिक व्यवसाय चमकाते गए और इन 70 सालों में जितनी भी सरकारे बनी उनके राजनीतिक दलों के तथाकथित व्यवसाई रूपी नेता लोग दिन दूनी रात दस गुनी तरक्की करते गए लेकिन इस देश की आम जनता आम ही रही।