शनिवार, 13 जून 2015

उजालों के दीप !

जैसे दीपक के जलने से 
जलता है अँधेरा ,
और अँधेरे के जलने से 
जलती है रात !
ठीक वैसे ही 
क्यों नहीं जलती 
ईर्ष्या हमारे दिलों की !


जलाने से तो जलता है 
जल भी ,
तो जलनशील 
चीजों को जलने में 
फिर कैसी देर !

जला  दो दिलों की जलन को 
कि जलने लगें 
हमारे दिलों में 
फिर से उजालों के दीप !

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...