गुरुवार, 29 नवंबर 2012

रिश्ते !








रिश्ते
और उनके मायने
न जाने कहाँ छूट गये !

सारी संवेदनाएं
मात्र एक
नाटक पात्र स दृश्य
प्रदर्शित की जाती हैं !


मार्मिक दुर्घटनाओं पर
आलेख, टिप्पणी
पुस्तक रचना या
या फिल्मांकन किया जा सकता है!


परन्तु,
इन संवेदनाओं से
जुड़े कोमल तंतु जैसे रिश्तों के
आयाम और मूल्य स्थापित करना ,
निरर्थक और विडम्बना पूर्ण हैं!




पर अर्थ के उपार्जन हेतु 
रिश्तो को बेंच देते है
और उनका गला घोटने में भी
कोई ग्लानि नही होती !

8 टिप्‍पणियां:

  1. गहन भाव लिये बेहतरीन अभिव्‍यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  2. सत्य को प्रदर्शित करती हुई सार्थक रचना ....वाह

    उत्तर देंहटाएं
  3. रिश्तों में अब भावनाएं नहीं स्वार्थ बसता है...
    आप मेरे ब्लॉग पर आएं...एक योजना पर काम कर रही हूं...आप उसे देख लीजिए और अवगत कराइए...

    उत्तर देंहटाएं

  4. कल 03/12/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. "अर्थ के उपार्जन हेतु ..." बहुत सटीक व सच्ची बात है वाकई गहन विचार ..

    मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://rohitasghorela.blogspot.com/2012/11/3.html

    उत्तर देंहटाएं

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...