सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

"मेरा भारत महान! "


सरकार की विभिन्न 
सरकारी योजनायें
विकास के लिए नहीं;
वरन "टारगेट अचीवमेंट
ऑन पेपर" और 
अधिकारीयों की 
जेबों का टारगेट 
अचीव करती हैं!

फर्जी प्रोग्राम , सेमीनार
और एक्सपोजर विजिट 
या तो वास्तविक तौर पर 
होती नहीं या तो मात्र
पिकनिक और टूर बनकर 
मनोरंजन और खाने - पीने का 
साधन बनकर रह जाती हैं!

हजारों करोड़ रूपये इन 
योजनाओं में प्रतिवर्ष 
विभिन्न विभागों में 
व्यर्थ नष्ट किये जाते हैं!

ऐसा नहीं है कि
इसके लिए मात्र 
सरकारी विभाग ही 
जिम्मेवार हैं , जबकि
कुछ व्यक्तिगत संस्थाएं भी
देश को लूटने का प्रपोजल 
सेंक्शन करवाकर 
मिलजुल कर 
यह लूट संपन्न करवाती हैं !

इन विभागों में प्रमुख हैं
स्वास्थ्य, शिक्षा, सुरक्षा;
कृषि, उद्यान, परिवहन, 
रेल, उद्योग, और भी जितने 
विभाग हैं सभी विभागों 
कि स्थिति एक-से- एक 
सुदृढ़ है इस लूट और 
भृष्टाचार कि व्यवस्था में!

और हाँ कुछ व्यक्ति विशेष भी
व्यक्तिगत लाभ के लिए,
इन अधिकारीयों और 
विभागों का साथ देते हैं;
और लाभान्वित होते है या
होना चाहते हैं!


अब आप बताईये
किस विभाग से जुड़े हैं 
और किस लूट में 
कितने प्रतिशत के 
भागीदार हैं
यदि नहीं तो कौन से 
विभाग से लाभान्वित 
होना चाहते हैं!
फिर आप भी सीना तान के 
कह सकते हैं 
"मेरा भारत महान! "

टिप्पणियाँ

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आज कल के हालात पर करारा व्यंग्य ....सब कुछ ऐसा ही तो हो रहा है

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर प्रस्तुति बहुत ही अच्छा लिखा आपने

    उत्तर देंहटाएं
  4. अब आप बताईये
    किस विभाग से जुड़े हैं
    और किस लूट में
    कितने प्रतिशत के
    भागीदार हैं------वर्तमान का सच
    वाकई एस ही देश महान है
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुन्दर उत्कृष्ट प्रस्तुती.

    उत्तर देंहटाएं
  6. वर्तमान का यही सच है,,,नेता अधिकारी चमचे सभी मिलकर देश को लूटने में व्यस्त है और लाभ उठा रहे है,,,

    RECENT POST... नवगीत,

    उत्तर देंहटाएं
  7. BlogVarta.com पहला हिंदी ब्लोग्गेर्स का मंच है जो ब्लॉग एग्रेगेटर के साथ साथ हिंदी कम्युनिटी वेबसाइट भी है! आज ही सदस्य बनें और अपना ब्लॉग जोड़ें!

    धन्यवाद
    www.blogvarta.com

    उत्तर देंहटाएं
  8. BlogVarta.com पहला हिंदी ब्लोग्गेर्स का मंच है जो ब्लॉग एग्रेगेटर के साथ साथ हिंदी कम्युनिटी वेबसाइट भी है! आज ही सदस्य बनें और अपना ब्लॉग जोड़ें!

    धन्यवाद
    www.blogvarta.com

    उत्तर देंहटाएं
  9. सभी अपना अपना पूरा योगदान दे रहे हैं ..देश को लूटने में ... इस प्रवृत्ति पर प्रहार करती एक तीक्ष्ण कविता ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. सादर जन सधारण सुचना आपके सहयोग की जरुरत
    साहित्य के नाम की लड़ाई (क्या आप हमारे साथ हैं )साहित्य के नाम की लड़ाई (क्या आप हमारे साथ हैं )

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

छूटे हुए पल

कहीं कुछ छूट जाता है
जब न समेट पाने की वजह से नहीं,
बल्कि जानबूझकर
छोड़ दिया जाता है;
वह कचोटता रहता है उम्रभर।

छोड़े जाने की
कोई तो वजह रही होगी
या रही होगी मजबूरी,
जब हमने छोड़ दिया;
उस छूटे हुए पल को,
जिसे उम्र आज भी 
आकुल है पा लेने को।
काश.....................

यादें: जो रहती हैं ताउम्र ताज़ी।

जज़्बातों को
तुम समेट लेना,
मैं रख लूँगा
तुम्हारा मन। कि बिखरने न पाये
सबंधों की गठरी
और हाँ,
बोझ भी न बनने पाये।
बना रहे
जीवन में हल्कापन।। क्यों
समय से पहले
टूट जाती हैं
ये ख्वाहिशें, या
हो जाती हैं पैदा
नयी ख्वाहिशें,
पूरी होने पर।
क्या यही है जीवन।। तुम्हारी अँगुलियों में,
लिपटा हुआ
मेरे केशों का
बिखरा हुआ प्रेम।
समेट रहा हूँ
शामों को यादों में
भीग रहा है हमारा मन।।

इंतजार, इंतजार करो

तुम्हें याद होगा!
नीली रोशनी में
काँपते हुए  
नीले होंठों से कहा था-
"--------------------!" 

तुम्हें याद होगा! 
सावन की हल्की  फुहारों में
सकुचाते ह्रदय से कहा था- 
"------------------!" 

तुम्हें याद होगा! 
अंगीठी के पास
लाल सुर्ख चेहरे  से 
शर्माते हुए कहा था- 
"----------------!" 

और यह कहती हुई 
मुझे तनहाई में  
सन्नाटे देकर चली गयी- 
" इंतजार, इंतजार करो ! "