शुक्रवार, 13 दिसंबर 2013

शेष

तुम नही हो 
तो भी तुम 
मेरे अंदर हो,
सब कुछ लेकर 
चले गये पर 
कुछ शेष रहा 
मेरे अंदर तुम्हारा 
उस शेष को 
न लेजा सके तुम 
क्योंकि वह शेष 
मेरा नहीं तुम्हारा था !


तुम्हारा होना या न होना 
नहीं महसूसता अब 
और यह शेष तुम्हारे 
अस्तित्व की
स्मृति नहीं मिटने देता है !

10 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तम शब्द चयन और प्रस्तुति |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  2. कल 15/12/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. अस्तित्व क्या मिट सकेगा फिर भी ...
    ये माया है जो हो के भी नहीं होगी जैसे न होके भी है ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut hi umda.... badhai..
    Please visit my Tech News Time Website, and share your views..Thank you

    उत्तर देंहटाएं

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...