रविवार, 26 जनवरी 2014

तृष्णा

यह जीवन की तृष्णा,
न जाने कब होगी थिर;
लक्ष्य दर लक्ष्य
हो जाती है और तीव्र,
पर नहीं ठहरती
यह मृत्यु पश्चात भी।

3 टिप्‍पणियां:

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...