शनिवार, 7 सितंबर 2013

एक और दिन

सुबह की 
शबनमी घास 
या पक्षियों का कलरव,
अधखिली कलियों के 
खिलने की आतुरता 
सब लीन हो जाते हैं 
एक और दिन गुजरने के 
प्रयास में !

और फिर 
सूरज ओढ़ लेता है 
वही चिर पुरानी 
तमिषा की चादर,
शाम होने तक 
कहीं रात उसके 
गुनाहों का 
हिसाब न मांगने लगे !

11 टिप्‍पणियां:

  1. खूबसूरत भावाभिव्यक्ति |
    डॉ अजय
    drakyadav.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  2. खूबसूरत अभिव्यक्ति
    हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  3. और जीवन यूँ ही निरंतर चलता रहता है. सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  4. जो दिन के उजाले में गुनाह करता है उसे रात कहां ढूंढ पाएगी ...
    लाजवाब गहरी सोच से उपजी रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. sir jo gunaho karta hai,us k liye kya din kya raat.............par bahut umda soch.......badhai dheerendra ji.......

    उत्तर देंहटाएं
  6. मार्मिक रचना । सुन्दर शब्द संयोजन । बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...