सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बस भी करो

तुमने लिखा
पानी,
कहीं जलजला था,
पर
आदमी की आँखों का
पानी मर चुका था।


तुमने लिखी
पीड़ा,
कराहों और चीख़ों से
गूँजते रहे सन्नाटे।


तुम जब लिखने लगे
भूख;
जबरन रोकना पड़ा मुझे
तुम्हारा हाथ
बर्दाश्त के बाहर थी
उस नवजात की चीख़
उसकी माँ को अभी
मिटानी थी
बहशियों की भूख को ।
 

टिप्पणियाँ

  1. बहुत कम लोग पहुँच पाएंगे गहराई तक...

    जब दुनियां के लिए भूख लिखी गयी
    तो बहुत सी मजबूरियां और शरहदें तोहफे में मिली

    रंगरूट

    जवाब देंहटाएं
  2. दिखने /लिखने और होने के मध्य संवेदनाओं को झकझोरती है रचना !
    मार्मिक !

    जवाब देंहटाएं
  3. गहरे अर्थ संजोये सुंदर प्रस्तुति।।

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

चुनाव और प्रजातंत्र

भारत को आजाद हुए 70 साल पूरे हो गए और 70 सालों से यहां पर लोकतंत्र बहाल है। कहने को और संवैधानिक रूप से इस देश में प्रत्येक नागरिक स्वतंत्र है और उसके अपने मौलिक अधिकार हैं। भारत के आजाद होते ही सरकार बनाने का एकमात्र विकल्प कांग्रेस थी और जैसे सत्ता की सियासत चालू हुई भारत में राजनैतिक लिप्सा और लोलिपता बढ़ती गई। यद्यपि भारत को आजाद कराना भी एक पूर्व नियोजित अवधारणा थी जिसके चलते इस देश में रहने वाली  सीधी साधी जनता पर मनमाना शासन किया जा सके और इस अवधारणा को साकार भी किया गया जिसका परिणाम यह हुआ की लोकतंत्र एक केवल औपचारिक तंत्र रह गया। प्रत्येक 5 वर्ष पश्चात या उसके मध्य में इस राजनीतिक बाजारवाद में कुछ लोग पूर्ण रूप से व्यवसायिक होकर राष्ट्रवाद  के नाम पर अपना राजनीतिक व्यवसाय चमकाते गए और इन 70 सालों में जितनी भी सरकारे बनी उनके राजनीतिक दलों के तथाकथित व्यवसाई रूपी नेता लोग दिन दूनी रात दस गुनी तरक्की करते गए लेकिन इस देश की आम जनता आम ही रही।

कोरोना और हमारा देश

कोरोना एक महामारी के साथ हमारे मुँह पर एक झंनाटेदार तमाचा भी है। हमने कभी स्वयं को इतना सुरक्षित बनाने की दिशा में प्रयास ही नहीं किए। पिछले साल से ही यदि हम कुछ सीख पाते तो यह भयानक स्थिति शायद न होती। लेकिन हम कहाँ सीखने वाले। अब भी समय है आने वाली पीढ़ियों के लिए इस प्रकृति को बचा लें  अन्यथा हम नहीं बच पायेंगे।  जीवन जीने के लिए मूलभूत संसाधन प्रकृति ने निःशुल्क प्रदान किए हैं  हमारा अब दायित्व है कि इसे संरक्षित करें।  अभी भी समय है स्वयं को और आने वाले कल को सुरक्षित  कर लें। “Perhaps we have learnt wrong definition of success once again think and find true value of that meant.”

तुम्हें तुम्हारा आफताब मुबारक

तुम्हें तुम्हारा आफताब मुबारक हमको हमारा ये चराग मुबारक। तुम क्या मुकम्मल करोगे मसलों को, तुम्हें ही तुम्हारा जवाब मुबारक। हो सकते थे और बेहतर हालात, रख लो, तुम्हें तुम्हारा हिसाब मुबारक । सूरत बदलने से नहीं बदलती सीरत, तुमको ये तुम्हारा नया हिजाब मुबारक। खुद ही खुद तुम खुदा बन बैठे हो तुम्हें यह तुम्हारा खिताब मुबारक। तुम्हें तुम्हारा आफताब मुबारक हमको हमारा ये चराग मुबारक।