गुरुवार, 24 सितंबर 2015

भूख

शरीर के
धारण करते ही
पैदा हो जाती है
भूख,
जो मरने तक
बनी रहती है ।
सारा जीवन
इसी भूख के इर्द-गिर्द
घूमता रहता है
काल के पहिये की मानिन्द।
भूख कभी नहीं मरती,
मार देती है
संवेदनाएं
वेदनाएं
और सीमाएं ।
हम भूख को
जिन्दा रखने के लिये
मारते रहते हैं
जीवन को ।
भूख और जीवन
दोनों ही नहीं
मरते कभी ।
या
भूख के मरने से पहले
मर जाता है जीवन,
कि जीवन के मरते ही
मर जाती है भूख।

8 टिप्‍पणियां:

  1. वाकई सत्‍य यही है। भूख के लिए कुछ भी नहीं रहता। यहां तक कि जीवन भी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. भूख कभी नहीं मरती,
    मार देती है
    संवेदनाएं
    वेदनाएं
    और सीमाएं ।
    ..सच आज ऐसा ही देखने को ज्यादा मिलता है .
    बहुत बढ़िया प्रेरक रचना

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. धीरेंद्र जी आपकी ये रचना बहुत ही अच्छी है इसमें इंसान की भूख आज के समय में भुत ही ज्यादा हो गई जिससे पुरे समाज को इसकी छति पहुंच रही है...... आप इस तरह की रचनाएं शब्दनगरी
    पर भी प्रेषित कर सकते हैं। ...

    उत्तर देंहटाएं

कीमत

तुम आ गए हो तो रौनक आ गई है गरीबखाने  में वगरना कोई कब्रिस्तां में जश्न मनाता है क्या। एक इश्क ही तो है जिसमें लोग लुट जाते हैं, यूं ह...