शुक्रवार, 20 जनवरी 2017

सच तो यही है

एक बच्ची
उड़ती है आज़ाद परिंदे सी,
ख्वाबों के आसमानों में।

एक लड़की
छुपा रही है खुद को
कुछ जोड़ी बहसी आँखों से।

एक औरत
घोट रही है खुद का ही गला 
डर है कि फाँसी पर न लटका दी जाय।

1 टिप्पणी:

कीमत

तुम आ गए हो तो रौनक आ गई है गरीबखाने  में वगरना कोई कब्रिस्तां में जश्न मनाता है क्या। एक इश्क ही तो है जिसमें लोग लुट जाते हैं, यूं ह...