सोमवार, 17 अक्तूबर 2011

राज़ न पूंछो..

हँस रहा हूँ मै आप की महफिल में,
आज मेरे हँसने का राज़ न पूंछो......!

जिन्दगी की ग़जल गुनगुनाने चला ,
निकली जो हलक से आवाज़ न पूंछो ....!

कोशिश थी एक हशीं मुशायरे की,
गमे शायरी का ये अंदाज़ न पूंछो.......!

बजता ही रहा जिन्दगी की धुन पर ,
रौनके महफिल का साज़ न पूंछो....!

आ गयी जो ये बात जुबाँ पर आज ,
मकशद -ए- बयाँ आज न पूंछो........!

हँस रहा हूँ मै आप की महफिल में,
आज मेरे हँसने का राज़ न पूंछो......!

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...