रविवार, 12 मई 2013

किसे ढूंढते हैं, ये सूने नयन ?

किसे ढूंढते हैं,
ये सूने नयन ?

स्मृतियों में क्यों,
हो रहे विह्वल ,
किस हेतु उन्मीलित,
हैं ये अविरल /
स्पंदन हीन हृदय ,
औ नीरद अयन
किसे ढूंढते हैं,
ये सूने नयन ?

अछिन्न श्वासें 
ढोकर ये जीवन,
भ्रमित भटका 
कोलाहल, कानन/
कब मिलेगा मुझे,
वह चिर शयन!
किसे ढूंढते हैं,
ये सूने नयन ?

श्रांत हो चली अब,
ये आहत सांसें ,
होगा  कब मिलन
पूर्ण होंगी आशें!
अपूर्ण रहा कुछ शेष ,
है अपूर्ण मिलन !
किसे ढूंढते हैं,
ये सूने नयन ?

22 टिप्‍पणियां:

  1. कोलाहाल/कानन, चिर शयन........बहुत सच बात।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल १४ /५/१३ मंगलवारीय चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहां स्वागत है ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अपूर्ण रहा कुछ शेष ,
    है अपूर्ण मिलन !
    किसे ढूंढते हैं,
    ये सूने नयन ?...दिल दा मामला है ..अच्छा लगा ..मेरे ब्लॉग पर भी आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  4. "किसे ढूँढते हैं ये सूने नयन " सुन्दर और भावपूर्ण रचना मन को छू गयी |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  5. जाने क्या ढूंढती रहती है ये आँखें।।।
    अबूझ है कभी तो कभी जाना पहचाना !

    उत्तर देंहटाएं
  6. किसे ढूंढते हैं,
    ये सूने नयन ?.....................सुन्दर,भावपूर्ण रचना धीरंद्र जी

    उत्तर देंहटाएं
  7. नयनों की भाषा या तो दिल समझता है ... या प्रेम का मारा ...
    बहुत उम्दा रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही सुंदर भाव पूर्ण अभिव्यक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  9. bahut sundar kavyatmak prastuti..........hamare blog par bhi aayen, pasand aane par sadasya ke roop mein shamil hokar apna sneh avasy dein.........

    उत्तर देंहटाएं
  10. भावपूर्ण अभिव्यक्ति | आभार

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति .. आपकी इस रचना के लिंक का प्रसारण सोमवार (03.06.2013)को ब्लॉग प्रसारण पर किया जायेगा. कृपया पधारें .

    उत्तर देंहटाएं
  12. शायद आंख और प्रेम एक दूसरे के पूरक हैं, बहुत ही सुंदर.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुंदर ....भावपूर्ण अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दरता से उतारा है भावनाओं को कलम से.

    उत्तर देंहटाएं
  15. कब मिलेगा मुझे,
    वह चिर शयन!
    किसे ढूंढते हैं,
    ये सूने नयन ?
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति .

    उत्तर देंहटाएं
  16. किसे ढूंढते हैं,
    ये सूने नयन ?

    लगा कि रचना जल्दी खत्म कर दी, शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  17. श्रांत हो चली अब,
    ये आहत सांसें ,
    होगा कब मिलन
    पूर्ण होंगी आशें!
    अपूर्ण रहा कुछ शेष ,
    है अपूर्ण मिलन !
    किसे ढूंढते हैं,
    ये सूने नयन ?

    बहुत ही भावमय रचना, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...