रविवार, 9 फ़रवरी 2014

कविता और मृत्यु

कभी पसीने की बूँद से
 उपजती है कविता,
कभी पेट की भूख से;
कुछ जीवन मार दिए जाते हैं,
जिन्दगी जीने से पूर्व ही।
 वाह मृत्यु !
तू महान है,
और तेरा
 यथार्थ सत्य।

7 टिप्‍पणियां:

  1. कोमल भावो की और मर्मस्पर्शी.. अभिवयक्ति ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. मृत्यु तो सत्य है पर कविता के सौंदर्य से इसे देखना भी एक कला है ...

    उत्तर देंहटाएं

कीमत

तुम आ गए हो तो रौनक आ गई है गरीबखाने  में वगरना कोई कब्रिस्तां में जश्न मनाता है क्या। एक इश्क ही तो है जिसमें लोग लुट जाते हैं, यूं ह...