बुधवार, 2 मई 2012

वख्त ( भाग्य )

हश्र कुछ यूँ हुआ जिन्दगी की किताब का ,
मैं जिल्द संवारता रहा और पन्ने बिखरते गये !

जिश्म में बाकी रही जान  भर  खालिस और,
रूह के हर वो कतरे पल-पल तडपते गये !

नुमाइश क्या करता मैं जख्मों का जहाँ में,
हर वो इरादतन- हादसे तजुर्बों में ढलते गये !

कोई मौला न मिला मेरी दुआओं को 
ख़्वाब-दर-ख्वाब आँखों से बिछड़ते गये !

मुझे मंजिल मिलने  का गम नहीं यारों,
थक गयी जिन्दगी और रास्ते बदलते गये !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कीमत

तुम आ गए हो तो रौनक आ गई है गरीबखाने  में वगरना कोई कब्रिस्तां में जश्न मनाता है क्या। एक इश्क ही तो है जिसमें लोग लुट जाते हैं, यूं ह...