शनिवार, 21 जुलाई 2012

दास्ताँ-ए-गम-2


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कीमत

तुम आ गए हो तो रौनक आ गई है गरीबखाने  में वगरना कोई कब्रिस्तां में जश्न मनाता है क्या। एक इश्क ही तो है जिसमें लोग लुट जाते हैं, यूं ह...