सोमवार, 23 जुलाई 2012

प्रणय-गीत-2




                                                       मेरी सांसों को सुर देकर;
                                                       तुम मेरा संगीत बन जाओ!

                                 बन कर सूरज की पहली किरन;
                                 जीवन में उजाला कर दो !
                                 खाली है मेरे दिल का पैमाना,
                                 तुम नेह की हाला भर दो !
                                 मैं हूँ तेरा चिर प्रेमी और 
                                 तुम  अमर प्रीत बन जाओ.........!



                                                           मेरी सांसों को सुर देकर;
                                                           तुम मेरा संगीत बन जाओ!


                                                                                  छोड़ के तू सारे जग को;
                                                                                  आ जा तू मेरी बाँहों में !
                                                                                 साथ चले थे-साथ चलेंगे 
                                                                                 हम जीवन की राहों में !
                                                                                 अब तक हारा मैं जग से 
                                                                                 तुम यह मेरी जीत बन जाओ.......!




                                                           मेरी सांसों को सुर देकर;
                                                           तुम मेरा संगीत बन जाओ!

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...