रविवार, 22 जुलाई 2012

प्रणय-गीत







                                  जब शाम ढले,
                                  पीपल छाँव तले;
                                  जल-गागर का प्यार पले...........!

                                                             गाँव की गोरी,
                                                             करके नजरों की चोरी;
                                                             जब घूँघट के पट खोले.............!
                                                             तन--मन झूमे भर-भर हिंडोले ....!

                                      कोयल राग सुनाये,
                                      माटी का कण भाग जगाये;
                                      आकर गोरी के पाँव तले.........!
                                      हर भँवरे का बदन जले...........!


                                                             जब शाम ढले,
                                                             पीपल छाँव तले;
                                                             जल-गागर का प्यार पले...........!


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कीमत

तुम आ गए हो तो रौनक आ गई है गरीबखाने  में वगरना कोई कब्रिस्तां में जश्न मनाता है क्या। एक इश्क ही तो है जिसमें लोग लुट जाते हैं, यूं ह...