मंगलवार, 27 अगस्त 2013

धर्म हठ

मैंने भी बादल की 
एक बूँद  के
इन्तजार में;
बिताया है
पूरा एक बरस !


फिर मन मार कर
धरती की छाती में 
धँसा दिया 
नुकीला हल !

क्योंकि 

मुझे तो निभाना ही था,
एक किसान का धर्म ;

भले ही
नष्ट हो जाय 
एक और सभ्यता 
अपने विकास के 
चरमोत्कर्ष 
परिणामों से !

6 टिप्‍पणियां:

  1. मुझे तो निभाना ही था,
    एक किसान का धर्म ;

    बहुत सुंदर भाव ,,,

    RECENT POST : पाँच( दोहे )

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति .. आपकी इस रचना के लिंक की प्रविष्टी सोमवार (02.09.2013) को ब्लॉग प्रसारण पर की जाएगी, ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें .

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर अभिव्यक्ति .खुबसूरत रचना ,कभी यहाँ भी पधारें।
    सादर मदन
    http://saxenamadanmohan1969.blogspot.in/
    http://saxenamadanmohan.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  4. मैंने तो निभाना है धर्म ...
    ऐसे लोगों के भार पर ही पृथ्वी टिकी रहती है ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. मुझे तो निभाना ही था,
    एक किसान का धर्म ;
    काश ! हर कोई अपने धर्म और अपने कर्म को समझे

    उत्तर देंहटाएं

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...