सोमवार, 21 अप्रैल 2014

आह्वान

हर वो जंजीर
जो जकड़े हुए है
तुम्हें दासता
या विवशता में,
तोड़ना होगा।


और हाँ
अपनी कोमलता
और सहृदयता को
अब आयुध में
बदलना होगा।।


पर ध्यान रहे
तुम्हारा दायित्व
सृजन का है,
कहीं यह रौद्रता
प्रलयंकर न बन जाए।।

6 टिप्‍पणियां:

  1. नव-सृजन के विकास हेतु स्नेहिल कोमलता चाहिये ,जो निरापद, निश्चिंत स्थिति में संभव है -कोई भी सृजन हो शान्ति और संरक्षण में समुचित पोषिण पाता है , संघर्षण और आयुध धारने की विवशता में रौद्र और भीषणता से कैसे बचेगा कोई ?

    उत्तर देंहटाएं
  2. रौद्र होकर संयम न खोना बड़ा जटिल काम है....
    अच्छी रचना..

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. आह्वान है ये कविता .. उत्प्रेरित करते भाव ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. पर ध्यान रहे
    तुम्हारा दायित्व
    सृजन का है,
    कहीं यह रौद्रता
    प्रलयंकर न बन जाए।।
    सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...