बुधवार, 17 अप्रैल 2013

गर तू खुद को नींद से जगा दे !


कतरा- कतरा जिन्दगी जीने से बेहतर है 
एक पल मुस्कराते हुए  जाँ लुटा दे !

मिल जायेगी ये शोहरत भी धूल में,
बेहतर है खुद को वतन पे मिटा दे ! 

शर्म से झुकना सर का, जिल्लत है,
क्यों न मादरे-वतन पे कटा दे !

सभी राहों से पाकीज़ा है कुर्बानियों की,
अपना भी कदम एक बढ़ा दे !

बन जाएगी तेरी हस्ती भी यहाँ,
गर तू खुद को नींद से जगा दे !

कतरा- कतरा जिन्दगी जीने से बेहतर है 
एक पल मुस्कराते हुए  जाँ लुटा दे !

20 टिप्‍पणियां:

  1. देशभक्ति और स्वाभिमान से जीने मार्ग अपनाने का आवाहन करने वाली कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 20/04/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. सभी राहों से पाकीज़ा है कुर्बानियों की,
    अपना भी कदम एक बढ़ा दे ...
    देश पे कुर्नाब होने वाले कम हैं आज ... बस दोहन करना चाहते हैं देश का ...
    अच्छे शेरों के माध्यम से मन की बात कही है ...

    उत्तर देंहटाएं

  4. सभी राहों से पाकीज़ा है कुर्बानियों की,
    अपना भी कदम एक बढ़ा दे !

    बहुत उम्दा
    latest post"मेरे विचार मेरी अनुभूति " ब्लॉग की वर्षगांठ

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवारीय चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  6. देश-भक्ति से ओत-प्रोत कर गई आपकी रचना
    हार्दिक शुभकामनायें ....

    उत्तर देंहटाएं
  7. देशभक्ति का अहसास जगाती सुन्दर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर व प्रेरणा दायक विचार ... बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी यह अद्वितीय प्रस्तुति 'निर्झर टाइम्स' पर लिंक की गई है। कृपया अवलोकन करें। आपकी प्रतिक्रिया एवं सुझाव सादर आमन्त्रित है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. काश,सभी के अंतर में इसकी प्रतिध्वनियाँ जाग जाएँ !

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर और देश-प्रेम से ओत-प्रोत रचना ....बहुत आनंद आया . ऐसे विचरों की आज सबसे ज्यादा जरूरत है

    उत्तर देंहटाएं

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...