शुक्रवार, 23 सितंबर 2011

उल्फत -ए-रुसवाई

उल्फत -ए-रुसवाई  में  जो  मिली  जुदाई ,
तन्हाई  में  जीने  की  आदत  सी  हो  गयी ...............!

गुजरे  हैं  जिन्दगी  के  उस  मुकाम  से  ,
हर  गम  पीने  की  आदत  सी  हो  गयी ..................!

अब  तो  बस  दिए  हुए  उन  जख्मों  को ,
यादों  में  सीने  की  आदत  सी  हो  गयी .................!

खुद  मेरी  मंजिल  मालूम  नहीं  मुझे ,
भीड़  में  खो  जाने  की  आदत  सी  हो  गयी ............!

ये  ज़िंदगी  तो  अब  मुकद्दर  बन  गयी ,
सजा -ए - मौत  पाने  की  आदत  सी  हो  गयी . .......!

सैयाद  तेरा  दाम  कितना  ही  नाजुक  हो ,
इस  में  फडफड़ाने   की  आदत  सी  हो  गयी ...........!


उल्फत -ए-रुसवाई में जो मिली जुदाई ,
तन्हाई में जीने की आदत सी हो गयी ................!

1 टिप्पणी:

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...