रविवार, 25 सितंबर 2011

यह मधु का प्याला रीत गया,

यह  मधु का प्याला रीत  गया,
अब तो सारा जीवन बीत गया /

मृदु मधु रस की मीठी बातें,
मधुर मिलन की बीती रातें /
लघु जीवन की क्षणिक जीत ,
मन मंजुल का मृदुल गीत /
अब तो बीत वह अतीत गया 
मन से हरा मन जीत गया
यह  मधु का प्याला रीत  गया,
अब तो सारा जीवन बीत गया /

वे अपने सारे छूट गये ,
वे सपने सारे टूट गये /
जीवन के इस करुण मोड़ पर ,
रही पथ पर निठुर छोड़ कर /
जाने कहाँ मेरा मीत गया ,
रह आज अधूरा गीत गया /
यह  मधु का प्याला रीत  गया,
अब तो सारा जीवन बीत गया /

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...