रविवार, 5 अगस्त 2012

बैहर-ए-आज़ादी

 जो इन्सान मुक्य्यद है इशरत में,
बैहर-ए-आज़ादी सरूर कैसे हासिल हो!

जब अस्प मुतलक इना नहीं तो,
खोकर चश्म-ए-नूर दीदार कैसे साहिल हो !

मुत्मईन है ज़िन्दगी बसर से फिर क्या;
क्या शरारार के इल्ल्तो सिहत फाजिल हो !

नूर-ए-खुदा मोहम्मदी या पैगम्बरी क्या;
अब्तर ही है वो कमतर भले ही काबिल हो !  

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...