बुधवार, 15 अगस्त 2012

क्यों है इतना विह्वल मेरा मन!

क्यों है इतना विह्वल मेरा मन!

सानिध्य तुम्हारा कुछ पल का है;
यह तो क्षुण नंदन भर छलका है !
विचलित भविष्य है जीवन का,
सोंच यह, तीव्र हो उठता स्पन्दन; 
क्यों है इतना विह्वल मेरा मन!

जीवन को चिर विकलता देकर;
भ्रांत निशा आ रही अवसान लेकर!
विरह वेदना से हृदय को भर देगी;
अभी सुनहरी संध्या का है आलिंगन!
क्यों है इतना विह्वल मेरा मन!

पद चिह्नों का लहरों से मिट जाना;
अकल्पनीयता का यूँ ही घट जाना,
क्या कुछ थिर रह पायेगा जीवन में,
असह्य हो जायगा यह विछ्लन;
क्यों है इतना विह्वल मेरा मन!

3 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 18/08/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं

चुनाव और प्रजातंत्र

भारत को आजाद हुए 70 साल पूरे हो गए और 70 सालों से यहां पर लोकतंत्र बहाल है। कहने को और संवैधानिक रूप से इस देश में प्रत्येक नागरिक स्वतंत्र...