बुधवार, 10 अक्तूबर 2012

इंतजार, इंतजार करो

तुम्हें याद होगा!
नीली रोशनी में
काँपते हुए  
नीले होंठों से कहा था-
"--------------------!"  

तुम्हें याद होगा! 
सावन की हल्की  फुहारों में
सकुचाते ह्रदय से कहा था- 
"------------------!"  

तुम्हें याद होगा! 
अंगीठी के पास
 लाल सुर्ख चेहरे  से 
शर्माते हुए कहा था- 
"----------------!"  

और यह कहती हुई 
मुझे तनहाई में  
सन्नाटे देकर चली गयी- 
" इंतजार, इंतजार करो ! "

8 टिप्‍पणियां:

  1. इंतज़ार का फल मीठा होता है, इसीलिए लगता है कहा गया है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...! सुप्रभात...शनिवार आपको मंगलमय हो...!

    उत्तर देंहटाएं

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...