बुधवार, 16 जनवरी 2013

आह्वान !



तोड़ दो सपनो की दीवारे,
मत रोको सृजन के चरण को ,
फैला दो विश्व के वितान पर,
मत टोको वर्जन के वरण को !

जाने कितनी आयेंगी मग में बाधाएँ,
कहीं तो इन बाधाओं का अंत होगा ही .
कौन सका है रोक राह प्रगति की ,
प्रात रश्मियों के स्वागत का यत्न होगा ही !

प्रलय के विलय से न हो भीत,
तृण- तृण  को सृजन से जुड़ने दो
नीड़ से निकले नभचर को
अभय अम्बर में उड़ने दो,

जला कर ज्योति पुंजों को ,
हटा दो तम के आवरण को ,

तोड़ दो सपनो की दीवारे,
मत रोको सृजन के चरण को!
     ?

15 टिप्‍पणियां:

  1. "तोड़ दो सपनों की दीवारें
    मत रोको सृजन के चरणों को " बहुत सुन्दर और भावपूर्ण पंक्तियाँ |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  2. जला कर ज्योति पुंजों को ,
    हटा दो तम के आवरण को ,

    तोड़ दो सपनो की दीवारे,
    मत रोको सृजन के चरण को!
    बहुत ही भावमय करते शब्‍द ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्‍दर.....नयापन लिए हुए कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सृजन के चरणों की सुन्‍दर पदचाप.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बोधगम्य सृजन ...अन्तर्निहित भावों को मुखरित करते हुए प्रवाहमयी .....

    उत्तर देंहटाएं
  6. तेज-ओज से परिपूर्ण आह्वान। सुन्दर अलंकृत शब्द चयन। सार्थक रचना। पहली बार आना हुआ आपके ब्लॉग पर। बहुत अच्छा लगा।
    ~ मधुरेश

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर कविता...बिलकुल सही कहा है सृजन की निरंतरता बनी रहनी चाहिए.

    उत्तर देंहटाएं
  8. जला कर ज्योति पुंजों को ,
    हटा दो तम के आवरण को ,

    तोड़ दो सपनो की दीवारे,
    मत रोको सृजन के चरण को!
    बहुत सुंदर भावमय प्रस्तुति
    New post कुछ पता नहीं !!! (द्वितीय भाग )
    New post: कुछ पता नहीं !!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर सोच! बहुत सुंदर अभिव्यक्ति! यही सकारात्मकता ही प्रगति का मूल मंत्र है...
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. प्रलय के विलय से न हो भीत,
    तृण- तृण को सृजन से जुड़ने दो
    नीड़ से निकले नभचर को
    अभय अम्बर में उड़ने दो,

    भाव मय ... सृजन की रह खोजती ...

    उत्तर देंहटाएं

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...