सोमवार, 25 जून 2012

"पुराने रास्ते, पुरानी गलियाँ ! "


सुबह उठता हूँ तो सोंचता हूँ!
आज नए रास्तों पे चलूँगा,
अपनी मंजिल को मैं पा लूँगा !

निकलते ही बाहर पुरानी गलियाँ
भर लेती हैं आगोश में,
चल पड़ता हूँ फिर 
उन्हीं पुराने रास्तों पर !

मेरे कदम खुद ही,
 कर देतें हैं रुख,
उन्हीं चिर-परिचित 
रास्तों की तरफ!
फिर भटक जाता हूँ,
अपनी एक नई मंजिल के रास्तों से !

ये भटकाव और परिचय की आदत,
दोनों ही मुझे,
मेरी मंजिल से वंचित किये हैं !

न जाने वह सुबह कब होगी,
जब मैं चल पडूंगा,
अपनी उस मंजिल की ओर!
और पा लूँगा अपनी
उस वंचिता मंजिल को !! 

1 टिप्पणी:

  1. साहस ... से ही सब कुछ संभव है ... कविता इस इंगित कारती है ... मेरे ब्लॉग पर आये

    उत्तर देंहटाएं

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...