रविवार, 10 जून 2012

दास्ताँ -ए- दरम्यां !

था वक्त का तकाजा जो,
हम बयाँ वो दास्ताँ न कर सके !

दो कदम चले साथ मगर,
फिर तय वो रास्ता न कर सके!

तंग-ए-हाल गुजरे वो दिन,
उनसे कभी वास्ता न कर सके !

दर्द-ए-जख्म हैं साथ जिन्हें,
अब तक आहिस्ता न कर सके!

उजड़ा जो चमन एक बार,
उसे हम गुलिश्तां न कर सके!

था वक्त का तकाजा जो,
हम बयाँ वो दास्ताँ न कर सके !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कीमत

तुम आ गए हो तो रौनक आ गई है गरीबखाने  में वगरना कोई कब्रिस्तां में जश्न मनाता है क्या। एक इश्क ही तो है जिसमें लोग लुट जाते हैं, यूं ह...