बुधवार, 20 जून 2012

ख़ामोशी!



दिल रो उठे फिर से,
न छेड़ो ऐसा साज कोई!


किसी तमन्ना पे तुझको,
हो न जाय ऐतराज कोई !


आज भी मोहब्बत को
यूँ ही रहने दो पाकीज़ा !


बेहतर है ख़ामोशी लबों की,
बयाँ न हो जाय राज कोई !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...