बुधवार, 20 जून 2012

ख़ामोशी!



दिल रो उठे फिर से,
न छेड़ो ऐसा साज कोई!


किसी तमन्ना पे तुझको,
हो न जाय ऐतराज कोई !


आज भी मोहब्बत को
यूँ ही रहने दो पाकीज़ा !


बेहतर है ख़ामोशी लबों की,
बयाँ न हो जाय राज कोई !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

चुनाव और प्रजातंत्र

भारत को आजाद हुए 70 साल पूरे हो गए और 70 सालों से यहां पर लोकतंत्र बहाल है। कहने को और संवैधानिक रूप से इस देश में प्रत्येक नागरिक स्वतंत्र...