मंगलवार, 27 दिसंबर 2011

जीवन

यह लघु जीवन कितना विशाल!

                          पग-पग पर मिलते चौराहे,
                          हर पथ पर मन जाना चाहे.
                          है जिसको यह जग ठुकराए,
                          भ्रमित पथिक किस पथ  जाए/
खाकर ठोकर हुआ बेहाल !
यह लघु जीवन कितना विशाल!

                                              बनते-मिटते सपने मन के;
                                              हंसते-रोते पल जीवन के,
                                              कितनी पथरीली ये राहें;
                                              स्वागत को फैलाये बाँहें :
              हर पल उलझता माया जाल'
              यह लघु जीवन कितना विशाल!

                             सुलझे जितना उलझे जीवन,
                             हर पल होता है घायल तन;
                             प्रतिक्षण होता विक्षिप्प्त अंतर्मन; 
                             होता रहता  मात्र हृदय वेदन;
कितना निठुर क्रूर काल व्याल,
यह लघु जीवन कितना विशाल!

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...