बुधवार, 19 सितंबर 2012

अलफ़ाज़ अपने जख्म दिखाने लगे!

इस दौर में किसका करें ऐतबार;
जब अपने ही आजमाने लगे!

भरोसा तो गैरों का भी था बहुत;
अब बेगाने हक जताने लगे!

हर कोई तो है गम जदा यहाँ पर;
कौन किसे दास्ताँ सुनाने लगे!

लफ्जों को जो हम बयाँ करने चले;
अलफ़ाज़ अपने जख्म दिखाने लगे!

रूठ जाएगी एक दिन ये जिन्दगी,
हिसाब सांसों का लगाने लगे!

10 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 22/09/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह ,,,, बहुत खूब, बेहतरीन प्रस्तुति,,,,,आस्थाना जी,,,

    उत्तर देंहटाएं
  3. अब इस जिंदगी का हिसाब किताब लगाना छोड़ दीजिए

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया
    बेहतरीन अभिव्यक्ति...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...