मंगलवार, 25 सितंबर 2012

अस्तित्व

थक चुकी है 
अब धरती;
जीवन का भार ढोते -ढोते!
बिखर जाना चाहती है 
टूट कर, होना चाहती है विलीन 
आकाश गंगा में;
पुनः अपने अस्तित्व के लिए!
बस प्रतीक्षा है 
इसको उस "asteroid" का 
जो अनंत से आ रहा है
लिए एक विनाश 
और पुनर्निर्माण के 
प्रारम्भ का नया सोपान!
ऐसे ही कितने 
होते रहते है विनाश;
और सृजन की
प्रक्रिया चलती रहती है
अनवरत!
और यह "black hole"
बनता रहता है,
अनंत आकाश गंगाएं !

5 टिप्‍पणियां:

  1. सृजन और नाश ,,,जन्म और मृत्यु की तरह सत्य है

    उत्तर देंहटाएं
  2. उम्दा पंक्तियाँ ..
    भाषा सरल,सहज यह कविता,
    भावाव्यक्ति है अति सुन्दर।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया अभिव्यक्ति,,

    प्रकृति में सृजन और बिनाश प्रक्रिया निरंतर चलाती रहती है ,,,,,

    RECENT POST : गीत,

    उत्तर देंहटाएं

कीमत

तुम आ गए हो तो रौनक आ गई है गरीबखाने  में वगरना कोई कब्रिस्तां में जश्न मनाता है क्या। एक इश्क ही तो है जिसमें लोग लुट जाते हैं, यूं ह...