शुक्रवार, 7 सितंबर 2012

जब से पैदा होने लगे सिक्के!

पहले बोता था 
गेहूं और 
पैदा करता था
गेहूं आदमी!
जिससे पलता था
यह आदमी !!
भूल से
 न जाने कैसे;
बो गये कुछ 
सिक्के एक दिन,

फिर क्या था-

गेहूं की जगह 
जमीन 
ने शुरू कर दिए
पैदा करने सिक्के!
अब नही उगती 
गेहूं की वह फसल !
और भूखों मरने लगा 
यह आदमी !
जब से  पैदा होने लगे सिक्के!

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कीमत

तुम आ गए हो तो रौनक आ गई है गरीबखाने  में वगरना कोई कब्रिस्तां में जश्न मनाता है क्या। एक इश्क ही तो है जिसमें लोग लुट जाते हैं, यूं ह...