सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

अर्थ हीन होता सृजेता का सृजन ,


१- श्रृंगार शून्य होती सुषमा 
संशय हीन होता 
यह जग ,
अन्तर्गगन में 
न विचरण करते 
विचार चेतन के विहग ;
कल्पना हीन होता यह मन !
यदि होते न लोचन !

२- न दीनता प्रति 
उर में उमड़ती दया,
न जन्मती करुणा
उठता न भाव कोई,
क्लांत होता न अत्न,
देख मानव की तृष्णा !
न विछिप्त होता अंतर्मन ,
यदि होते न लोचन !

३- न कोई कहता ,
प्रतीक्षा में पथराई आँखें ,
न कोई दिवा स्वप्न देखता ,
न होता कोई,
 जीवन में अपना - पराया ,
न किसी को दृष्टिहीन कहता !
भावना शून्य होते जड़-चेतन ,
यदि होते न लोचन !

४-विटप सम 
होता मानव जीवन 
अर्थ हीन होता कर्म,
उदरपूर्ति 
हेतु होते व्यसन ,
पर न होता कोई मर्म!
कहाँ होता चिन्तन - मनन ,
यदि होते न लोचन !

५-देख पर सुख,
न होती ईर्ष्या ,
न उपजता कोई विषाद,
रंग - हीन , स्वप्न- हीन 
होता जीवन ,
न होता आपस में 
कोई विवाद!
हर्ष-द्वेष रहित होता निश्छल मन ,
यदि होते न लोचन !

६- न मानव करता,
मानवता पर अत्याचार,
पुष्प-प्रस्तर का मात्र , 
होता मृदुल-अश्मर प्रहार,
दिवस निशा का बोध ,
कराता मात्र यह,
नीरस स्वर-संचार !
रस हीन होते ये धरा-गगन ,
यदि होते न लोचन !

७- किस हेतु होती अभिव्यक्ति 
होता न जीवन का आधार ,
घायल होती रहती मानवता ,
कौन किस पर करता उपकार ,
तरसती दया, करुणा रोती,
प्रकट न होता कोई आभार!
निष्प्राण तुल्य होता यह जीवन,
यदि होते न लोचन !

८- व्यर्थ होता कलियों पर 
भ्रमरों का गुंजन ,
व्यर्थ होता ऋतुराज का ,
धरा पर आगमन ,
व्यर्थ होता कानन में ,
मयूरों का नर्तन !
कौन सुनता उरों का स्पंदन 
यदि होते न लोचन 

९-श्रृंगार -सुषमा हीन,
पुष्प पल्लवी होती,
यह प्रकृति सुन्दरी 
विधवा सी रोती,
हेतु अस्तित्त्व यह,
मौन धरा सोती!
अर्थ हीन होता सृजेता का सृजन ,
यदि होते न लोचन !

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

छूटे हुए पल

कहीं कुछ छूट जाता है
जब न समेट पाने की वजह से नहीं,
बल्कि जानबूझकर
छोड़ दिया जाता है;
वह कचोटता रहता है उम्रभर।

छोड़े जाने की
कोई तो वजह रही होगी
या रही होगी मजबूरी,
जब हमने छोड़ दिया;
उस छूटे हुए पल को,
जिसे उम्र आज भी 
आकुल है पा लेने को।
काश.....................

यादें: जो रहती हैं ताउम्र ताज़ी।

जज़्बातों को
तुम समेट लेना,
मैं रख लूँगा
तुम्हारा मन। कि बिखरने न पाये
सबंधों की गठरी
और हाँ,
बोझ भी न बनने पाये।
बना रहे
जीवन में हल्कापन।। क्यों
समय से पहले
टूट जाती हैं
ये ख्वाहिशें, या
हो जाती हैं पैदा
नयी ख्वाहिशें,
पूरी होने पर।
क्या यही है जीवन।। तुम्हारी अँगुलियों में,
लिपटा हुआ
मेरे केशों का
बिखरा हुआ प्रेम।
समेट रहा हूँ
शामों को यादों में
भीग रहा है हमारा मन।।

इंतजार, इंतजार करो

तुम्हें याद होगा!
नीली रोशनी में
काँपते हुए  
नीले होंठों से कहा था-
"--------------------!" 

तुम्हें याद होगा! 
सावन की हल्की  फुहारों में
सकुचाते ह्रदय से कहा था- 
"------------------!" 

तुम्हें याद होगा! 
अंगीठी के पास
लाल सुर्ख चेहरे  से 
शर्माते हुए कहा था- 
"----------------!" 

और यह कहती हुई 
मुझे तनहाई में  
सन्नाटे देकर चली गयी- 
" इंतजार, इंतजार करो ! "