सोमवार, 17 सितंबर 2012

परिवर्तन

चिड़िया के चूजे जब
चहचहाते  थे उनदिनों पेड़ पर;
कोई गोरैया चुन लेती थी
अपने हिस्से के चावल!
और तिलोरियों की लड़ाईयां 
देती थीं संकेत बारिश आने का!
पुराना बरगद जो 
हुआ करता था
अनगिनत पक्षियों का बसेरा!
अब चिह्न भी नहीं रह गये 
अवशेष जो इनके होने का 
प्रमाण दे सकें!
हाँ इन पेड़ों की जगह लेली हैं
कुछ सरकारी इमारतों ने !
जहाँ कभी-कभी भीड़ इकट्ठी होती हैं
दाने-दाने की लड़ाईयों के लिए;
जिन पर  सरकार ने पाबंदी लगा दी है 
अब कोई दो दानों से अधिक नहीं खायेगा;
और जिसको खाना होता है
वो बन जाता है खुद सरकार!

9 टिप्‍पणियां:

  1. और जिनको खाना होता है वो बन जाता है सरकार .... सटीक ... अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपस में हम लड़ रहे,करते है तकरार
    गरीबो का हक छीनकर,खा जाती सरकार,,,,

    पोस्ट पर आने के लिये आभार,,,,,
    आप समर्थक बने तो हार्दिक खुशी होगी,,,,,
    RECENT P0ST फिर मिलने का

    उत्तर देंहटाएं
  3. विकास की विनाशलीला का सहजता से प्रतिबिंबन कितना असहज होता है, वह रचनात्मक व्यक्ति ही जान सकता है। कविता भूत और वर्तमान की पगडंडी होती हुई भविष्य के सच तक ले जाती है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. दाने दाने की लड़ाईयों के जिन पर सरकार ने पाबंदी लगा दी है
    बहूत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  5. जिनको खाना होता है वो बन जाता है सरकार .... सटीक ... अच्छी रचना दाने दाने पर पर लिखा है खाने बाले का नाम

    उत्तर देंहटाएं
  6. रचना बहुत अच्छी लगी | सुन्दर कटाक्ष

    उत्तर देंहटाएं

चुनाव और प्रजातंत्र

भारत को आजाद हुए 70 साल पूरे हो गए और 70 सालों से यहां पर लोकतंत्र बहाल है। कहने को और संवैधानिक रूप से इस देश में प्रत्येक नागरिक स्वतंत्र...