रविवार, 15 जनवरी 2012

'संसय,

पुष्पों का चिर रुदन ,
जीवों का यह कृन्दन ,
अब और तुषारापात!
सह कर रहा नहीं जाता !

सूरज भी व्याकुल है ;
उसका भी मन आकुल है,
ह्रदय पर यह आघात ,
चुप रह सहा नहीं जाता !

कुहासे की यह क्रीड़ा,
देखकर अत्न की पीड़ा ;
निज पर निज का संघात!
कुछ और कहा नहीं जाता

जीवन में यह कैसा संसय ,
देख कर हो रहा विस्मय ;
चल रहा कैसा चक्रवात ;
अब और चुप रहा नहीं जाता !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...